Saharanpur Terrorist Mohammed Nadeem UP ATS Arrested From Saharanpur Was Just 10th Pass ANN

Saharanpur Terrorist: यूपी के सहारनपुर से जैश ए मोहम्मद के आतंकी मोहम्मद नदीम को यूपी एसटीएफ ने गिरफ्तार किया है. साधारण सा दिखने वाला ये आतंकी महज दसवीं पास है लेकिन बेहद हाई टेक है. आतंकी नदीम के बारे में जानने के लिए एबीपी न्यूज़ की टीम उसके घर पहुंची. नदीम के घर पर उसकी मां और पिता हैं, लेकिन दोनों में से कोई बात करने को तैयार नहीं हुआ.

नदीम के मां-बाप दोनों बीमार हैं. वहीं आसपास के लोगों को कहना है कि ATS की टीम आई थी और रात को नदीम को ले गई, हमें बाद में पता चला. नदीम के बारे में लोगों का कहना है कि उसे देखकर ऐसा नही लगता था कि वो फोन में कोई क्या कर रहा है. लोगों ने कहा नदीम के बारे में कोई कुछ नहीं कह सकते.

नदीम महज दसवीं पास
जैश ए मोहम्मद से जुड़ा मोहम्मद नदीम महज दसवीं पास है, लेकिन वो बेहद हाई टेक आतंकी है. नदीम पाकिस्तान में बैठे अपने आकाओं से एक एप्लीकेशन के जरिये बात करता था और उनसे संपर्क में रहता था. खास बात ये है कि ये एप्लीकेशन इसने खुद बनाई थी. नदीम को तहरीक-ए-तालिबान (पाकिस्तान) ने 100 लोगों को फिदायीन हमले की ट्रेनिंग देने का टास्क दिया गया था. साथी ही 30 लोगों की टीम नदीम के संपर्क में थी, जिनके लिए इसनें वर्चुअल नम्बर बनाये थे.

Explained: सलमान रुश्दी के अलावा इन हस्तियों पर भी सरेआम हुआ जानलेवा हमला, एक की हत्या के पीछे आया था पुतिन का नाम

नूपुर शर्मा की हत्या का टास्क 
वहीं आगे जानकारी मिली कि इन 30 लोगों को छोटे-छोटे वीडियो बनाकर फिदायीन हमले की ट्रेनिंग दी जा रही थी, जिसके कोर्स का नाम ‘फिदाय’ था. नदीम को यूपी और उत्तराखंड में विशेष तौर पर रिक्रूटमेंट करने का जिम्मा दिया गया था. नदीम के मोबाइल से कुछ लोगों के प्रोफाइल डिटेल भी मिले हैं जिन्हें रिक्रूट करने के लिए TTP के सैफुल्ला से बात कर रहा था. बता दें कि जैश ए मुहम्मद और तहरीक ए तालिबान से जुड़ा आतंकी मोहम्मद नदीम सहारनपुर से गिरफ़्तार किया गया है. पूछताछ में नदीम ने बताया कि उसे जैश की ओर से नूपुर शर्मा की हत्या का टास्क दिया गया था.

शातिर आतंकी से मिली जानकारी  
नदीम जैश-ए-मोहम्मद और तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान के आतंकियों से सीधे संपर्क में था. नदीम जैश और तहरीक-ए-तालिबान की विचारधारा से प्रभावित होकर फिदायीन हमले की तैयारी कर रहा था. वहीं नदीम के मोबाइल से फिदायीन विस्फोट से जुड़ी पीडीएफ फाइल मिली. उसके मोबाइल से जैश-ए-मोहम्मद और टीटीपी के आतंकियों से चैट, वॉइस मैसेज भी मिले हैं. नदीम व्हाट्सएप, टेलीग्राम, आईएमओ, फेसबुक मैसेंजर, क्लब हाउस के जरिए जैश और टीटीपी के आतंकियों से जुड़ा था. उसने विदेशी आतंकियों को 30 से ज्यादा वर्चुअल नंबर, सोशल मीडिया आईडी बना कर दी थी. टीटीपी के पाकिस्तानी आतंकी ने नदीम को सोशल मीडिया के जरिए फिदायीन हमले की ट्रेनिंग दी.

Sonia Gandhi: सोनिया गांधी फिर हुईं कोरोना पॉजिटिव, सरकारी प्रोटोकॉल के हिसाब से होंगी क्वारंटीन

 

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.